जा रे हट नटखट : नवरंग

गंगाधर मुटे's picture

नवरंग मधील "जा रे हट नटखट " हे सिने गीत माझ्या खूप आवडीचं.
पं. भरत व्यास यांच्या सुमधुर आणि ठसकेबाज शब्दांना अजरामर लयीत संगीतबद्ध केले आहे.
सी. रामचंद्र (मूळ : रामचंद्र चितळकर, जि. नगर) यांनी.
महेंद्रकपूर आणि आशा भोसलेंच्या स्वराबद्दल तर बोलायलाच नको.
निव्वळ अप्रतिम गीत आहे हे सर्वार्थाने.
१९५९ मध्ये गायलेल्या या गीताचा ५८ वर्षांनंतरही गोडवा तितकाच कायम आहे.
ही एक अद्भुत दर्जाची कलाकृती आहे.
~~~~~~
अटक-अटक झटपट पनघट पर चटक मटक इक नार नवेली
गोरी-गोरी ग्वालन की छोरी चली
चोरी चोरी मुख मोरी मोरी मुसकाये अलबेली
कँकरी गले में मारी कंकरी कन्हैये ने
पकरी बाँह और की अटखेली
भरी पिचकारी मारी
भोली पनिहारी बोली

अरे जा रे हट नटखटना छू रे मेरा घूँघट
पलट के दूँगी आज तुझे गाली रे

अरे जा रे हट नटखटना छू रे मेरा घूँघट
पलट के दूँगी आज तुझे गाली रे
मुझे समझो न तुम भोली भाली रे

आया होली का त्यौहार
उड़े रंग की बौछार
तू है नार नखरेदार मतवाली रे
आज मीठी लगे है तेरी गाली रे

तक तक ना मार पिचकारी की धार
तक तक ना मार पिचकारी की धार
कोमल बदन सह सके ना ये मार
तू है अनाड़ी, बड़ा ही गँवार
कजरे में तूने अबीर दिया डार
तेरी झकझोरी से, बाज़ आयी होरी से
चोर तेरी चोरी निराली रे
मुझे समझो ना तुम भोली भाली रे

अरे जा रे हट नटखट ना छू रे मेरा घूँघट
पलट के दूँगी आज तुझे गाली रे
मुझे समझो ना तुम भोली भाली रे

धरती है लाल आज, अम्बर है लाल
धरती है लाल आज, अम्बर है लाल
उड़ने दे गोरी गालों का गुलाल
मत लाज का आज घूँघट निकाल
दे दिल की धड़कन पे, धिनक धिनक ताल
झाँझ बजे शँख बजे, संग में मृदंग बजे
अंग में उमंग खुशियाली रे
आज मीठी लगे है तेरी गाली रे

अरे जा रे हट नटखट ना छू रे मेरा घूँघट
पलट के दूँगी आज तुझे गाली रे
मुझे समझो ना तुम भोली भाली रे

~~~~~~